Browsing Category

विचार

मुझे रेलगाड़ी के Engine से प्यार हो गया…

अंग्रेजों ने जब हिंदुस्तान में नई-नई रेलगाड़ी (Train) चलाई तो एक डेरे के बाबा जी रोजाना रेलगाड़ी देखने जाते थे। एक दिन डेरे के सेवादारों ने पूछ लिया कि आप रोज Train देखने क्यों जाते हो ? 🤔 बाबा जी ने जवाब दिया कि "मुझे रेलगाड़ी के Engine से…

❣️एक मुलाकात ज़िन्दगी से

-स्वामी यतींद्र आनंद अब्राहम लिंकन के पिता जूते बनाते थे, जब वह राष्ट्रपति चुने गये तो अमेरिका के अभिजात्य वर्ग को बड़ी ठेस पहुँची!सीनेट के समक्ष जब वह अपना पहला भाषण देने खड़े हुए तो एक सीनेटर ने ऊँची आवाज़ में कहा, मिस्टर लिंकन याद…

भगवान परशुराम के बारें में कुछ बातें जो प्रत्येक परिवारों के हर बच्चे को मालूम होनी चाहिए-

भगवान परशुराम भगवान विष्णु के छठे अवतार के रूप में पूजे जाते हैं. धार्मिक ग्रंथों के अनुसार, भगवान परशुराम का जन्म अक्षय तृतीया के दिन हुआ था. इसलिए इनकी शक्ति कभी क्षय नहीं हो सकती. बल्कि भगवान परशुराम की शक्ति अक्षय थी. शास्त्रों में…

17 मई जानकी नवमी: उनके मंदिर बनने की तो बहुत खुशी है पर मेरा जीर्णोद्धार कब होगा?

प्रभात झा उनके मंदिर बनने की तो बहुत खुशी है पर मेरा जीर्णोद्धार कब होगा। भारत में सामान्य तौर पर किसी से भी पूछा जाए कि भगवान श्री राम लला का जन्म कहां हुआ, तो सभी तपाक से उत्तर देंगे अयोध्या। हर भारतीय के जुवां पर यह नाम है। इसी तरह यदि…

वोट न डालने का दुष्परिणाम- इतिहास की सच्ची घटना

सन् १९४६-४७ में  भारत के विभाजन के समय आसाम के सिलहट जिले को गोपीनाथ बोरदोलोई ने भारत में मिलाने की बात रखी। जनमत संग्रह किया जाना तय किया गया। वोटिंग के दिन सारे मुसलमान सवेरे ही लाइनों में लग गये हिन्दू लाखों थे पर वे दोपहर तक सोने और…

अतीत के झरोखों से / 6 – माधव हेयर कटिंग सैलून

प्रशांत पोळ बचपन में, महीने के पहले रविवार को बाल काटने के लिए सैलून में जाना अनिवार्य होता था. बचपन की यादों में इस कटिंग का अहम स्थान हैं. और अहम स्थान हैं, ‘माधव हेयर कटिंग सैलून का. बचपन में बाल काटने की सारी यादें जुडी हैं, माधव…

महान सांसद और संन्यासी: स्वामी_रामेश्वरानंद जी। परम गौ भक्त। अद्वितीय व्यक्तित्व के स्वामी

जयंत पटेल। गुरूकुल घरौंदा के एक आचार्य थे। जनसंघ के टिकट पर सांसद बन गए, तो उन्होंने सरकारी आवास नहीं लिया। वे दिल्ली के बाजार सीताराम, दिल्ली-6 के आर्य समाज मंदिर में ही रहते थे। वँहा से #संसद तक पैदल जाया करते थे कार्रवाई में भाग लेने।…

करनाल में डगर आसान नहीं है पनघट की मनोहर लाल की – करना पड़ रहा है चुनौतियों का सामना

गुस्ताखी माफ़ हरियाणा-पवन कुमार बंसल मनोहर लाल के लिए करनाल आसान नहीं है - कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। करनाल संसदीय क्षेत्र में मनोहर लाल खट्टर के लिए चुनावी भविष्यवाणी सीधी नहीं है। अंदरूनी रिपोर्टों के अनुसार, मुकाबला कड़ा और…

विषम परिस्थिति में सकारात्मक मानसिकता

प्रोफेसर दिव्या तंवर छात्रों को परीक्षाओं में असफलता का सामना करना आज के दौर में बहुत महत्वपूर्ण है। यह एक ऐसा प्रक्रिया है जो उन्हें जीवन में महत्वपूर्ण सीखों की प्राप्ति कराती है। असफल होना केवल एक परीक्षा के परिणाम का अंग है, न कि…

-:पुष्यमित्र शुंग:- सनातन हिन्दू संस्कृति के ध्वजवाहक

प्रस्तुति -:कुमार राकेश इतिहास कभी मिथ्या नहीं हो सकता। इतिहास तो स्वयं एक अटल सत्य है जो काल चक्र के किसी पहलू में अंकित हो चुका है। किन्तु इतिहास को मिथ्या बनाया जाता है। इतिहास के तथ्य मर्दन का कार्य करते हैं वामपंथी इतिहासकार और…